14 अक्तूबर 2012

यूँ ही नही कहलाती है...


                                                   जब-जब थामने की कोशिश करता हूँ,
                                                   कुछ दूर जा खड़ी होती है
                                                   गर बंद करना चाहूँ भी इसे,
                                                   कुछ ढ़ीली सी पड़ जाती है |
                                                   जब मतलब समझना चाहूँ,
                                                   बेमतलब सी हों जाती है
                                                   जब होता हूँ बेखबर तो,
                                                   हवा सा छू के निकल जाती है |
                                                   जब अकेला बैठा होता हूँ,
                                                   तब साथ देने आती है
                                                   बिन कहे-सुने,
                                                   कुछ बूंदों को लिए हुए,
                                                   सब कुछ कह जाती है |
                                                   जब कलम उठाता हूँ,
                                                   दौड़ी चली आती है
                                                   कुछ बेजान से शब्दों में,
                                                   जान डालकर
                                                   सबकुछ बयां कर जाती है |
                                                   कुछ रिश्तों के जरिए,
                                                   होता है इसका आगे बढ़ना
                                                   कभी अपनों से है बढ़कर,
                                                   तो कभी दुश्मनी सिखा जाती है |
                                                   जब गलती को याद रखकर,
                                                   सबक को भूल जाता हूँ
                                                   तो
                                                   कुछ दूर खड़ी होकर मुस्कुराती है |
                                                   जीतना ही जरुरी नही,
                                                   हर मोड़ पर,बार-बार
                                                   हारना भी बखूबी सिखलाती है |
                                                   कहीं तिनकों का आसरा लेकर
                                                   कभी कागज पर स्याही बनकर
                                                   कभी चेहरों की मुस्कुराहट बनकर
                                                   कभी दिल का दर्द बनकर
                                                   सब जगह दिख जाती है |

                                                   सारे रंगों को भी सोखकर,
                                                   कभी फीकी ही रह जाती है
                                                   "जिंदगी"-यूँ ही नही कहलाती है...!!!
                                                                                     
                                                                                         - "मन"

24 टिप्‍पणियां:

  1. जीतना ही जरुरी नही, हर मोड़ पर,बार-बार हारना भी बखूबी सिखलाती है | कहीं तिनकों का आसरा लेकर कभी कागज पर स्याही बनकर कभी चेहरों की मुस्कुराहट बनकर कभी दिल का दर्द बनकर सब जगह दिख जाती है |

    "जिंदगी"-यूँ ही नही कहलाती है...!!!
    बड़े ही सुंदर लफ़्ज़ों मे, गहराई का पुट लिए,खूबसूरत कविता बहुत खूब ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. कुछ रिश्तों के जरिए..
    बहुत सुन्दर तरीके से कही गयी जिन्दगी की बातें ..

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. और तरीका इस जिंदगी ने ही सिखाया है...|
      आभार |

      हटाएं
  3. बहुत सुंदर अंदाज में लिखा है...
    जि़न्दगी के हर रंग को उकेरा

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही बढ़िया रचना..
    सुन्दर और बेहतरीन..
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर रचना...जिंदगी में हार का भी महत्त्व होता है. मैं तो कहता हू जो भी स्वाभाविक है उसे जीवन में आने दो, हार और जीत भी शायद शब्दों का ही खेल हो. आभार

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी आपसे पूर्ण सहमति रखता हूँ..आखिर जीत का मज़ा हार के बाद ही आता है |

      हटाएं
  6. सुंदर भावपूर्ण कविता । मेरे पोस्ट पर आपका स्वागत है। धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत भावपूर्ण रचना बहुत अच्छी लगी |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  8. वाह,.... .....बहुत ही सुन्दर लगी पोस्ट ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. सारे रंगों को भी सोखकर,
    कभी फीकी ही रह जाती है
    "जिंदगी"-यूँ ही नही कहलाती है...!!!
    uf sahi kaha aesi ho hoti hai zindagi
    sunder
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपका आभार....ब्लॉग पर आने के लिए |

      सादर |

      हटाएं
  10. जीतना ही जरुरी नही,
    हर मोड़ पर,बार-बार
    हारना भी बखूबी सिखलाती है |
    कहीं तिनकों का आसरा लेकर
    कभी कागज पर स्याही बनकर
    कभी चेहरों की मुस्कुराहट बनकर
    कभी दिल का दर्द बनकर

    बहुत बढ़िया कविता

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी स्वागत है मेरे ब्लॉग पर...यहाँ आने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद |

      सादर |

      हटाएं
  11. जीतना ही जरुरी नही,
    हर मोड़ पर,बार-बार
    हारना भी बखूबी सिखलाती है |
    बहुत बढिया लगीं ये पंक्तियाँ |

    शुभकामनायें
    -आकाश

    उत्तर देंहटाएं

आपका कुछ भी लिखना,अच्छा लगता है इसीलिए...
कैसे भी लिखिए,किसी भी भाषा में लिखिए- अब पढ़ लिए हैं,लिखना तो पड़ेगा...:)