6 अप्रैल 2013

गलतियाँ...

हर कोई जो कुछ सीखना चाहता है,वो गलतियाँ करता है या हो जाती है | गलतियाँ करके ही हम यह अनुभव कमाते हैं कि कोई काम किस हद तक सही या गलत है | हम कोई काम यह सोचकर करते हैं कि 'यह काम हमारे लिए सही होगा' तो उस काम में गलतियाँ हो जाने की भी उतनी ही गुंजाइश होनी चाहिए | फिर यह हम पर निर्भर करता है कि हम उन गलतियों से कुछ सीखकर आगे बढ़ना चाहते हैं या चंद लकीरों का बहाना लेकर कहीं रुक जाना बेहतर समझते हैं |
             हम भी गलतियाँ करते हैं,हमसे जुड़े हुए लोगों से भी गलतियाँ होती है फिर उनसे खफ़ा होकर हम एक और गलती कर रहें होते हैं | सबकी अपनी-अपनी ज़िंदगी है,उसूल है,अपना-अपना जीने का तरीका है...वे अपने काम के प्रति कोई सा भी नज़रिया लेकर चलते हैं तो हमारा नज़रिया,उनके नज़रिए को स्वीकार करने वाला होना चाहिए | पर इस दरम्याँ जरुरत इस बात की होनी चाहिए कि हमारे सामने वाला भी बहुत हद तक ऐसा ही कुछ सोचता हों |  

जब खुद को पाओ
अपने ही बेहद करीब,
एक बार सोचना
दूसरों की गलतियों के बारे में
रखना खुद को उसकी जगह पर
एहसास होगा कि
उसने जो किया,तुम भी वही करते...
कोई उन चीझों को जी रहा होता है,
तुम बस महसूस करके
निकल जाते हों आगे
और भूल जाते हों कि 
गलतियाँ तो इंसान से ही होती है
और एक ही इंसानियत सब में पलती है...

तुम अब भी ढूंढते हों 
दूसरों में गलतियाँ,
शायद..!
खुद से अभी तक मिले नहीं हों तुम...

                          - "मन"

13 टिप्‍पणियां:

  1. कबीर दास का दोहा याद आ गया .... बुरा जो देखन मैं चला ....
    बहुत अच्छी प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  2. खुद से मुलाकात होगी फिर भी कुछ लोग नहीं सीखेंगे -बहुत अच्छी प्रस्तुति
    LATEST POST सुहाने सपने
    my post कोल्हू के बैल

    उत्तर देंहटाएं
  3. दूसरों की गलतियों को देखना और समझना ..शायद सफलता का मूल मन्त्र हैं ....एक शेर अर्ज करता हूँ ..

    उसी राह पर चले हो तो टकराना जरुर
    हम रास्ते के पत्थर कभी चोट नहीं खाते।

    पधारिये आजादी रो दीवानों: सागरमल गोपा (राजस्थानी कविता)

    उत्तर देंहटाएं

  4. कल दिनांक 08/04/2013 को आपकी यह पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपकी प्रतिक्रिया का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही बेहतरीन प्रस्तुति मंटू जी.

    उत्तर देंहटाएं
  6. सच तो ये है की अपने से मिल के भी नहीं मिलना चाहते हैं लोग आज ...
    दूसरे की बुराई ढूँढने से फुरसत कहां पाते हैं ..

    उत्तर देंहटाएं
  7. ...गलतियों से इंसान को बहुत कुछ सीखने को मिलता है .....इंसान से ही गलती होती हैं ...बस अपनी गलती स्वीकारने वाले ही गलती को अच्छे से समझते हैं ......बहुत बढ़िया प्रस्तुति ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. एक बार सोचना
    दूसरों की गलतियों के बारे में
    रखना खुद को उसकी जगह पर
    एहसास होगा कि
    उसने जो किया,तुम भी वही करते...

    yah ekdam sach hai ... door baith kar sthiti ka vishleshan karna aur raay dena alag baat hai lekin khud us paristhiti me hote huye sochna-samajhna aur samyik evam sateek nirnay lekar us par amal karna ekdam alag alag baat hai.

    उत्तर देंहटाएं
  9. विचारणीय बात ....बहुत सुंदर एवं सकरात्मक पोस्ट

    उत्तर देंहटाएं
  10. सही कहा इंसान से ही गलतियाँ होती है........हाँ उन्हें दोहराना नहीं चाहिए ।

    उत्तर देंहटाएं
  11. ज़रूरी है की लोग अपनी गलती को गलती मानें और उससे सीख लेकर आगे बढ़ें ।आज कल तो लोग अपनी गलठियों को छुपाने के लिए दूसरों की गलतिया गिनाने लगते है (और इसमें बहुत बड़ा हाथ राजनीतिज्ञों का है)
    जिंदगी हर पल एक नया अनुभव देती है फिर चाहे कामयाबी मिले या नकामयाबी हर अनुभव सीख देकर जाता है बस ज़रूरत है तो आँखें खुले रखने की ।
    उम्दा विचार लाजवाब प्रस्तुति....

    उत्तर देंहटाएं
  12. आप खुशनसीब हैं जो आपसे गलती हुयी और आप समझदार हैं जो आपने अपनी गलती से कुछ सीखा|

    उत्तर देंहटाएं

आपका कुछ भी लिखना,अच्छा लगता है इसीलिए...
कैसे भी लिखिए,किसी भी भाषा में लिखिए- अब पढ़ लिए हैं,लिखना तो पड़ेगा...:)