12 मई 2013

उस माँ को सलाम...

जब रात,आँखों से गुजरते हुए,
दिन के करीब पहुँच जाए...
जब पलकों के झपकने से ज्यादा,
बदलने लगूँ करवटें...
जब जीने की वजह,
रातों में भी धुँधली दिखे...
जब जज्बात बेबस होकर,
उसूलों की परवाह न करें...
जब मुस्कुराने की हर छोटी कोशिश,
उदासी में गुम हों जाए...
जब खुद की बनाई दुनिया ही,
अजनबी-सी लगे...
फिर एक छोटे-से कमरे में,
पूरी दुनिया को समेटकर
सबकुछ भूल जाने की जदोजहद में,
बस तुम याद आती हों,माँ...

माँ...मेरी छोटी-सी मुस्कुराहट में तुम्हारी हर बड़ी नाउम्मीदी पल भर में खो जाती थी...मै जितनी बढ़िया से अपनी हर बेमतलब की बात कह भी नहीं पाता था,उतनी इत्मीनान से तुम सुनती थी...
माँ...एक तुम्हारा ही झूठ बोलना मुझे हर सच्ची बात सीखा जाता है...झूठ,जो तुम्हें कभी भूख नहीं लगती थी...झूठ,जो मेरी जरूरतें पूरी करते-करते तुम कभी थकती नहीं थी...झूठ,जो कभी भी तुम्हें नई साड़ी की जरुरत नहीं पड़ी...वही झूठ जो मुझे सच्चे रास्तों पर चलने की हमेशा याद दिलाता है...वही झूठ जो सच के बेहद करीब है...
वह माँ,जिसके बिना मेरी ज़िंदगी का हर एक दिन अधूरा है...उस माँ को सलाम...

                                                                                                                       - "मन"

20 टिप्‍पणियां:

  1. ब्लॉग बुलेटिन के माँ दिवस विशेषांक माँ संवेदना है - वन्दे-मातरम् - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर ... .मातृ दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. माँ की याद पल पल आती है ... उसको भुलाना आसां कहां ... संबल है वो जीवन है वो ... कभी कभी जीवन बेमानी लगता है उसके बगेर ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति,मातृ दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. वह माँ,जिसके बिना मेरी ज़िंदगी का हर एक दिन अधूरा है...उस माँ को सलाम..

    उत्तर देंहटाएं
  6. एक समय में रूप अनेकों
    माँ तुम सबमे रम जाती हो
    पत्नी ,माँ ,भाभी और बहना
    माँ तुम कितने फ़र्ज़ निभाती हो

    उत्तर देंहटाएं
  7. नमस्कार !
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल सोमवार (13-05-2013) के माँ के लिए गुज़ारिश :चर्चा मंच 1243 पर ,अपनी प्रतिक्रिया के लिए पधारें
    सूचनार्थ |

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत ही कोमल भावपूर्ण रचना..
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  9. मार्मिक और भावपूर्ण रचना
    माँ को समर्पित
    बधाई

    आग्रह है पढ़े "अम्मा"
    http://jyoti-khare.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर और सच्चा ||

    उत्तर देंहटाएं
  11. आपने काफी सुन्दर लिखा है...
    इसी विषय  International father's day से सम्बंधित मिथिलेश२०२०.कॉम पर लिखा गया लेख अवश्य देखिये!

    उत्तर देंहटाएं

आपका कुछ भी लिखना,अच्छा लगता है इसीलिए...
कैसे भी लिखिए,किसी भी भाषा में लिखिए- अब पढ़ लिए हैं,लिखना तो पड़ेगा...:)