24 अगस्त 2012

"रुतबा"


                                                               कल की यादें,
                                                               पलकों पर बन के बूँदे,
                                                               आने की होड़ में हैं...

                                                               कि
                                                               कुछ यूँ बनाया है रुतबा अपना,

                                                               हमारी साँसे तो 'आज' की है,
                                                               पर हम जीते 'कल' में हैं |

                                                                                          -"मन"

8 टिप्‍पणियां:

  1. mere blog 'kehna padta hai' par lagbhag 600 post hain, par maine aaj tumhen guru maan liya. tumhare paas jeevan ke prati jo sakaratmak ravaiyya hai, vah mere paas nahin aapata.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. यह आपका बडप्पन हैं सर |
      बहुत-बहुत आभार...

      हटाएं
  2. आपके ब्लॉग पर पहली आर आया..
    बहुत अच्छा लगा..
    और सबसे ज्यादा प्यारा आपका नाम लगा :)
    यह नाम मैं अपनी पोस्टस में और वैसे भी बहुत ज्यादा यूज करता हूँ :)
    आपको ढेर सारी शुभकामनाएँ..

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. तो हमारा धन्यवाद भी कबूल कीजिए...:)
      बहुत-बहुत आभार...

      हटाएं
  3. gagar me saagar le aana..yahi to kavi kalam ka kamaal he....sundar rachna....padhkar kahna chahunga ki....

    sadhe sadhe se shabd samete....
    yaad bhare jo nayan ukere!

    lamha do jo "kal", tera dekha...
    saath ho chale mere shabd chitere!

    Ehsaas......



    उत्तर देंहटाएं
  4. हम लगभग हमउम्र हैं शायद इसलिए आपको 'दोस्त' कहकर बुलाऊंगा |
    दोस्त, गिन के छह लाइन हैं लेकिन जो जादू इनमे भरा है आपने बस पढ़ के मज़ा आ गया ...बहुत बहुत बधाई..!!!

    और हाँ, मेरे ब्लॉग उद्गम पे आने का बहुत शुक्रिया...!

    आपका,
    ऋषि

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. हमारा आपस में शब्दों का रिश्ता बन चूका है,आप बेशक 'दोस्त'कह सकते है..(और में भी)
      आप मेरे ब्लॉग पर आए,अच्छा लगा...:)

      सादर |

      हटाएं

आपका कुछ भी लिखना,अच्छा लगता है इसीलिए...
कैसे भी लिखिए,किसी भी भाषा में लिखिए- अब पढ़ लिए हैं,लिखना तो पड़ेगा...:)