25 अगस्त 2012

ऐसे भी होते हैं |

अरे भाई,तुम्हारे रिजल्ट का क्या रहा ??(कभी-कभी जब कोई,किसी और से रिजल्ट के बारे में पूछता है इसका मतलब है कि उस पूछने वाले का रिजल्ट बहुत बढ़िया आया है |)
"बहुत बढ़िया रहा,इतना बढ़िया कि अब क्लास के टॉपर्स के बीच कॉलर उठा के खड़ा हो सकता हूँ ...टीचरों से नज़र मिला सकता हूँ...इतना बढ़िया कि मम्मी-पप्पा अपने दोस्तों के बीच बोल सके कि "मेरे बेटे की इतनी बनी हैं,अब क्या बताए बचपन से ही बड़ा होनहार है,बिल्कुल मेरे ऊपर गया हैं जी ..."
और बात यहीं पर खत्म नही होती है बॉस ...हमरे पप्पा इतने खुश हुए कि अगले ही दिन, हमको एक फुल फीचर्स वाला चाइनीज मोबाइल और एगो फटफटिया दिला दिए |
चाइनीज मोबाइल के बारे में तो जानता ही होगा ,,,अरे वहीँ जिसमें गाना बजता हैं तो माहौल को एकदमे गनगना देता हैं | अब त चाइनीज का ही सब खेला है बाजार में,,,तुम एहिसे मिला लो कि अब तो मिस वर्ल्ड भी चाइनीज प्रोडक्ट ही हैं |और बात रही फटफटिया कि त ओहके बारे में भी बताई देत हैं ....सुबह देखा ही होगा कॉलेज उसी से त आए थे |
आँखों पर साइज़ से चार गुना ज्यादा बड़ा चश्मा...दाहिने हाथ में सिकड़ी और बाएँ में पट्टा....मुँह में गुटखा की जगह हैपीडेंट....(अच्छी संगत होने पर गुटखा भी होगा ) दाहिना कंधा,बाएँ कंधे के रेस्पेक्ट में साढ़े तीन इंच ऊपर उठाए हुए...छाती को फुल दम लगा के फुलाए हुए....रुमाल को गर्दन और कॉलर के बीच में फंसा के...
एकदम लुक देते हुए कॉलेज में एन्टर किये थे ....ससुरा गेटकीपर भी गेट को धड़ाक से ओपेन किया जबकि हम पूरे सवा दो घंटे लेट आए थे | और साथ में फटफटिया क्या लाएं,,,इतने सारे यार-दोस्त हो गए कि पूछो ही मत |बस एतना सुन लो कि पप्पा को बार-बार थैंक्यू बोलने का मन कर रहा है |
तुम अपनी भी तो सुनाओ लल्ला ?...बस खाली हमी बकत जात हैं |"
क्या कीजियेगा जानकार,,,बस पास हो गए,और हम भी यही चाहते थे......हम तो एक ही बात जानते हैं कि अगर ज्यादा पढ़ने लगेंगे तो ज्यादा नंबर आने लगेगा,,,जब ज्यादा नंबर आने लगेगा तो हम भी टॉप करने लगेंगे ,,,जब टॉप करने लगेंगे तो पापा जी खुश होकर हमको भी कुछ ना कुछ देने लगेंगे |इसीलिए हम पढ़ते ही नही हैं ,,,ना पढेंगे,,ना टॉप करेंगे..ना पापा जी का पैसा खर्च होगा |हम खाली देखने में ही ढपोल लगते हैं |
तो कुल मिला बात के यहीं हैं कि हम पापा जी का पैसा बचा रहें हैं |और पापा जी का बार-बार 'थैंक्यू बेटा जी' कहने का मन करता है |"

5 टिप्‍पणियां:

  1. Mantu, sach men aap hi likhte hain aisa sab?kabhi-kabhi hame lagta hai ki "Dance india dance" me aaye nanhe dance ke baapon ki tarah ab blogs ke baap bhi avtarit ho rahe hain. [UMDA]

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अपना मुँह,मिया मिठू..वाली बात हो गई ये तो..:) जी बिल्कुल,हम ही लिखते हैं |और अगर आप इस तरह से हमारा उत्साहवर्धन करते रहेंगे तो यह क्या इससे भी बढ़िया लिखेंगे|
      आभार...!

      हटाएं
  2. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. हाहाहा.. कोई रिजल्ट पूछ रहा हो इसका मतलब उसका रिजल्ट ठीक आया है...
    बिलकुल सही बात...

    उत्तर देंहटाएं
  4. एक सुझाव है.. ये टिप्पणी से वर्ड वेरिफिकेशन हटा लें... ये माथा खराब करने वाला सिस्टम है जिसके कारण बहुत लोग चाहते हुए भी बिना टिप्पणी किये निकल लेते हैं,,,

    उत्तर देंहटाएं

आपका कुछ भी लिखना,अच्छा लगता है इसीलिए...
कैसे भी लिखिए,किसी भी भाषा में लिखिए- अब पढ़ लिए हैं,लिखना तो पड़ेगा...:)