12 नवंबर 2012

क्यूँ ???

क्यूँ
फैला है सन्नाटा
पर छंटती नही भीड़ है...

क्यूँ
रिश्ते है जुड़े हुए,
पर एहसास का निशां नही...

क्यूँ
साथ है तुम्हारा,
पर पास तुम अब भी नही...

क्यूँ
उजाला है चारों तरफ,
पर दिखता सिर्फ अँधेरा है...

क्यूँ
राहें बनी है गुमराह,
खबर नही मंजिल की भी...

क्यूँ
जान नही पाया,
अपने ही खुद को...

क्यूँ
मिला है सबकुछ,
पर बाकी है एक कसक...

क्यूँ
हो गया मै सबका,
पर कोई हमारा ना हो सका...

                                   -"मन"

17 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बढिया । आपको दीपावली की शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपको भी दीपावली की ढेरों शुभकामनाएँ...|

      हटाएं
  2. Tyohar par to log khana-peena bhool jate hain, tum badhiya sochna aur likhna bhi nahin bhoole, Laxmi pooja parv par bhi Saraswati saath hain tumhaare, akela mat samjho khud ko.Happy Deewali!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद अंकल जी...दिवाली की अनंत बधाई...|

      हटाएं
  3. बढ़िया सोच
    तलाशती ज़मीन
    सुंदर भाव ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह ... बेहतरीन
    '' दीप पर्व की अनंत शुभकामनाएं ''

    उत्तर देंहटाएं
  5. सवालो से भरी है जिन्दगी....
    कुछ न कुछ उलझने तो रहती ही है...
    आपको सहपरिवार दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  6. मंगलमय हो दीपों का त्यौहार... आपको व आपके समस्त परिवार को दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें......

    उत्तर देंहटाएं
  7. दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुंदर प्रयास .....!!

    क्यूँ का जवाब अपने भीतर ही तलाशना पड़ता है ....:))

    उत्तर देंहटाएं
  9. जिंदगी सवालों का ढेर ही तो है ... बहुत सारे क्यूँ हैं जो अनुत्तरित ही रह जाते हैं ....सुन्दर रचना के लिए बधाई।।
    सादर
    मंजु

    उत्तर देंहटाएं
  10. आज मैंने हर सवाल का जवाब तलाश लिया ,
    अब जिंदगी में खालीपन सा दिखता क्यूँ है ?

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुन्दर ! क्यों ? यह प्रश्न तो पीछा नहीं छोड़ता
    New post; Gandhari ke raj men !

    उत्तर देंहटाएं

आपका कुछ भी लिखना,अच्छा लगता है इसीलिए...
कैसे भी लिखिए,किसी भी भाषा में लिखिए- अब पढ़ लिए हैं,लिखना तो पड़ेगा...:)