28 नवंबर 2012

कभी-कभी या हर वक्त...

कभी ज़िंदगी के साथ जीया हूँ,
तो कभी छोड़ आता हूँ पीछे कहीं...
कभी हर गम को पीता हूँ,
तो कभी छोड़ देता हूँ आँसूओं के साथ उन्हें...
कभी लिखता हूँ खुद कि तक़दीर को,
तो कभी उसके भरोसे भी नही चल पाता हूँ...
कभी हर दिल में घर बनाने की कोशिश करता हूँ,
तो कभी बेदखल हों जाता हूँ खुद से ही...
पर सोच के मुस्कुराता हूँ कि
जो वक्त ने राह दिखाई है,ज़िंदगी को
उसकी खबर नही है मुझको,पर
उस राह पर चलना बखूबी जानता हूँ मै...

                                                   - "मन"

18 टिप्‍पणियां:

  1. Bahut khoob. Khud se bedakhal hokar hi har dil men jagah milti hai. badhe chalo!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. :)
      जब खुद से ही बेदखल हों जायेंगे..तब हम खुद से मिलेंगे तो फिर क्या ?

      हटाएं
  2. बहुत ही बढ़ियाँ गहन भाव रचना...
    जिन्दगी के साथ मुस्कुराते रहिये,
    शुभकामनाएँ..
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभार..:)
      हर मुमकिन कोशिश है,ज़िंदगी के साथ मुस्कुराने की..!

      हटाएं
  3. सुन्दर काव्य।
    मेरी नयी पोस्ट "10 रुपये के नोट नहीं , अब 10 रुपये के सिक्के" को भी एक बार अवश्य पढ़े ।
    मेरा ब्लॉग पता है :- harshprachar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभार...!! हमारे ब्लॉग पर आपका स्वागत है...:)

      हटाएं
  4. वाह ... बेहतरीन प्रस्‍तुति

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही लाजवाब ढंग से लिखी गयी एक उम्दा कविता ...

    आपकी इस कविता के अंतिम चरण में जो बदलाव आया वो बेहद पसंद आया.

    मेरी नयी पोस्ट पर आपका स्वागत है
    http://rohitasghorela.blogspot.com/2012/11/3.html

    उत्तर देंहटाएं
  6. मंटू जी बहुत ही भावपूर्ण प्रस्तुति ,सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  7. उम्दा....... बेहतरीन प्रस्‍तुति

    उत्तर देंहटाएं
  8. बस यूं ही चलते रहिए ... सुंदर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  9. सोच के देखो ज़रा , वक्त ने जो राह दिखाई है जिंदगी को उसकी खबर अगर हमें पहले से ही होने लगे तो जिंदगी में तो कोई एक्साइटमेंट ही नहीं बचा | जरूरी यही है की बस उस राह पर चलते रहो , कदम दर कदम , बेहतर से बेहतर |

    उत्तर देंहटाएं
  10. जो जिंदगी के रास्तों पे चलना सीख गया ... उसने आधा सफर तो पूरा कर लिया ...
    भापूर्ण प्रस्तुति ...

    उत्तर देंहटाएं

आपका कुछ भी लिखना,अच्छा लगता है इसीलिए...
कैसे भी लिखिए,किसी भी भाषा में लिखिए- अब पढ़ लिए हैं,लिखना तो पड़ेगा...:)