7 जून 2013

ख़ुशी की वजह...

बेवजह खुश रहने के पीछे भी एक वजह होती है...चाहे वजह,वक्त की परतों में दब गई हो या फिर मुस्कुराने का सबब उस वजह को भुला देना चाहता हो...कुछ भी हो,अगर गम के लिए वजह हमारी ज़िंदगी बनती है तो हमारे चेहरे पर हर छोटी सी मुस्कुराहट को लेकर हमारी ज़िंदगी ही आती है...

ख़ुशी के लिए
ज़िंदगी को
कुछ लम्हों तक
गमों के रास्तों से गुजार देना
जरुरी है
बेइंतहा सुकूं के लिए
कभी-कभी
पलकों को भिगो देना...
फिर
पहुँच जायें उस हद तक
जहाँ नौबत न आयें
किस्मत के भरोसे रहने का
जहाँ आँखें नम होकर
तरीका सिखा दे
हँसते हुए सँभलने का...
तब
करें कुछ उस आज में ऐसा
कि
जो वक्त गुजरा है
किसी को भुला देने में,
उन्हीं लम्हों में जाकर
जी चाहें
मुस्कुरा देने का...

                    - "मन"

13 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर भावनात्मक अभिव्यक्ति ..आभार . चमन से हमारे जाने के बाद . साथ ही जानिए संपत्ति के अधिकार का इतिहास संपत्ति का अधिकार -3महिलाओं के लिए अनोखी शुरुआत आज ही जुड़ेंWOMAN ABOUT MAN

    उत्तर देंहटाएं
  2. जो वक्त गुजरा है
    किसी को भुला देने में,
    उन्हीं लम्हों में जाकर
    जी चाहें
    मुस्कुरा देने का...
    ------------
    सुन्दर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (09-06-2013) के चर्चा मंच पर लिंक की गई है कृपया पधारें. सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपने लिखा....हमने पढ़ा
    और लोग भी पढ़ें;
    इसलिए कल 09/06/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  5. भावनात्मक अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  6. भावपूर्ण अभिव्यक्‍ति !

    उत्तर देंहटाएं
  7. ख़ुशी के लिए
    ज़िंदगी को
    कुछ लम्हों तक
    गमों के रास्तों से गुजार देना
    जरुरी है
    बेइंतहा सुकूं के लिए
    कभी-कभी
    पलकों को भिगो देना...बहुत सुन्दर भाव ,अच्छी प्रस्तुति !

    latest post: प्रेम- पहेली
    LATEST POST जन्म ,मृत्यु और मोक्ष !


    उत्तर देंहटाएं
  8. अदभुत भाव लिये सुंदर रचना. बहुत अच्छी प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत ही लाजवाब ... बीते हुए लम्हों में जाके उनके बदलने का एहसास बहुत ही मधुर है ...
    भावपूर्ण रचना है ...

    उत्तर देंहटाएं

आपका कुछ भी लिखना,अच्छा लगता है इसीलिए...
कैसे भी लिखिए,किसी भी भाषा में लिखिए- अब पढ़ लिए हैं,लिखना तो पड़ेगा...:)