2 सितंबर 2012

तुम याद आती हो...




                                                   वक्त तेज़ी से निकला और
                                                   और तुम वक्त से तेज़ निकले...

                                                   जख्म तो तुम्हारे जैसे दगा दे गया,
                                                   पर निशानी का साथ अब भी है...
                                                   अब शामिल है,मुस्कुराना फितरत में...
                                                   और 'शायद' इसकी खबर किसी को नही,
                                                   कि पीछे एक दर्द अब भी है...
                                                 
                                                   मेरे-तुम्हारे हिस्से का,
                                                   जहाँ गुजरता था वक्त,
                                                   अब भी जा आता हूँ...
                                                   कुछ बदला नही, तुम्हारे सिवा
                                                   पर ढलता सूरज,
                                                   जाता है कहता हुआ...
                                                   कि...तुम्हारे जाने के दिन मे,
                                                   एक और दिन जुड़ गया |
                                                 
                                                   तुमसे अब कोई वास्ता नही,
                                                   पर आज तलक...
                                                   तुम्हारे हिस्से का वक्त यूँ ही...
                                                   'तन्हा' गुजरता है |

                                                   कभी-कभी सोचता हूँ,
                                                   कि काश...!
                                                   कोई ऐसा दिन भी आता,
                                                   तुम पास मेरे आती और कहती,
                                                   कि "कौन लगते हो तुम,मेरे??"
                                                   जो रोज सपनों मे चले आते हों |

                                                                                -"मन"

11 टिप्‍पणियां:

  1. तुम्हारे हिस्से का वक्त यूँ ही...
    'तन्हा' गुजरता है |.....

    बहुत ही दिलकश... mango man sahab

    उत्तर देंहटाएं
  2. यादों पर किसी का बस नहीं बेरोकटोक आती हैं, फिर भी मुस्कुराना तो पड़ता ही है.... बहुत सुन्दर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  3. Chalo, koi 'man' to aisa bhi hai jo bolta bhi hai. aur bahut khoob bolta hai.

    उत्तर देंहटाएं
  4. यादें जीवन की अनुपम धरोहर हैं। इन्हे संजोकर रखिए एवं जब किसी की याद आए तो बस मुस्करा दीजिए, जिंदगी हसीन हो जाएगी । बहुत सुंदर। मेरे नए पोस्ट पर आपका हार्दिक अभिनंदन है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. विविध विषयों पर लेखन आपके ब्लॉग की और आकर्षित करता है ....आज पहली बार आपके ब्लॉग पर आना हुआ अच्छा लगा ..नियमित लेखन के लिए आपको शुभकामनायें ...!

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह बेहतरीन शदों से सजी पंक्तियां ................
    जख्म तो तुम्हारे जैसे दगा दे गया,
    पर निशानी का साथ अब भी है...
    अब शामिल है,मुस्कुराना फितरत में...
    और 'शायद' इसकी खबर किसी को नही,
    कि पीछे एक दर्द अब भी है...

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर
    मनभावन रचना...
    :-)

    उत्तर देंहटाएं

आपका कुछ भी लिखना,अच्छा लगता है इसीलिए...
कैसे भी लिखिए,किसी भी भाषा में लिखिए- अब पढ़ लिए हैं,लिखना तो पड़ेगा...:)