5 सितंबर 2012

मुझे आज भी याद है...


वो काम ना करने का बहाना बनाना...और बड़ी सादगी से पकड़ा जाना...
वो आपका कान मरोड़ना...और फिर हिदायत देके छोड़ना...
मुझे आज भी याद है...

वो ककहारा रटवाना...वो जोड़-बाकी के सवालों से जूझाना...
वो 13 का पाहड़ा,मुझे याद ना होना...फिर आपका बेंत बरसाना...
फिर मेरे रोने तक मुर्गा बनवाना...मेरा चुप ना होना...
फिर चुप कराने के लिए दो थपड लगाना... और फिर
अगले दिन तक की मोह्लत देना...
मुझे आज भी याद है...

वो चाट-पकौड़ी खाते पकड़े जाना...गाँव की गलियों मे
गोली खेलते धरा जाना...कभी-कभी आपको देखकर रफूचक्कर हो जाना...
फिर अगले दिन स्कूल के प्रार्थना मे सभी बच्चों के सामने पानी-पानी करना...
और कान पकड़वा के उठक-बैठक कराना...
मुझे आज भी याद है...

वो आपका पढ़ाना...मेरे ऊपर से जाना...वो क्लास मे पूछना...
फिर मेरा सकपकाना...सर दर्द का बहाना बनाना...
और फिर घर पर शिकायत करना...
मुझे आज भी याद है...

वो दस मे से 3 नंबर आना...आपका डाँटना...मेरा खामोश खड़ा होना...
फिर अगली बार दस मे से 8 नंबर लाना...
आपका हल्का सा मुस्कुराना..."दस मे से दस क्यूँ नही आए" आपका कहना...
मुझे आज भी याद है...

वो डाँट के पीछे प्यार...वो गुड़िया वाली कविता...वो सीख भरी कहानी...
वो आपका हौसला बढ़ाना..."कुछ बन के दिखाऊंगा" मेरा सोचना...
और आपका पीठ थपथपाना...
मुझे आज भी याद है...


वो मेरे मस्ती के दिन...बहुत सारी खुराफातें...
और आपकी माफ करने की आदतें...
मुझे आज भी याद है...

कभी कुछ गलत होने पर मेरे कंधे पर हाथ रखना...
जैसे एक प्यारे दोस्त का साथ होना...
मुझे आज भी याद है...


मुझे आज भी याद है,मुझे सबकुछ याद है,सर | आज जो कुछ भी हूँ,आपसे ही हूँ | छोटे थे जब ये चीजें बुरी लगती थी पर आज इनकी कमी महसूस होती है |अब सोचता हूँ की इन सब रंगों के बगैर मेरा बचपन अधूरा रह जाता...पर आपके होने से ऐसा नही हुआ |आपका कितना शुक्रगुजार हूँ ? इसके लिए मेरे पास शब्द नही है |

11 टिप्‍पणियां:

  1. मुझे भी बहुत कुछ याद आ गया....शायद आपने याद दिला दिया....
    बहुत सुन्दर मैंगो मैन साहब.....

    उत्तर देंहटाएं
  2. अध्यापक दिवस की शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  3. Apne adhyapak ko jo tumne aaj lauta diya, vah us se kam nahin hai, jo unhone tumhe diya.

    उत्तर देंहटाएं
  4. उत्तर
    1. मेरे ब्लॉग पर आने के लिए आपका बहुत-बहुत आभार |

      हटाएं
  5. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं

आपका कुछ भी लिखना,अच्छा लगता है इसीलिए...
कैसे भी लिखिए,किसी भी भाषा में लिखिए- अब पढ़ लिए हैं,लिखना तो पड़ेगा...:)